Sep 6, 2016

रेल राज्य मंत्री पहुंचे चेनाब पुल, कौरी छोर पर मेन आर्क की बुनियाद का शुभारंभ

रेल राज्य मंत्री राजेन गोहेन ने जम्मू तथा कश्मीर के रियासी क्षेत्र में कौरी गांव के छोर पर चेनाब पुल के कार्यस्थल का दौरा किया. चेनाब पुल उधमपुर-श्रीनगर-बारामुला रेल लिंक परियोजना (USBRL) के कटरा-बनिहाल सेक्शन पर बनाया जा रहा है. 161 किलोमीटर लंबी रेल लाइन का कार्य पूरा हो चुका है तथा कटरा-बनिहाल के बीच 111 किलोमीटर रेल लाइन का काम चल रहा है.

कटरा-बनिहाल रेल सेक्शन का सलाल हाइड्रो पावर डैम के पास चेनाब पुल का डीप ग्रोसेस का कार्य चल रहा है. वहीं चेनाब नदी पर मेगा ब्रिज का कार्य भी तेजी पर है. चेनाब पुल की रिवर बेड से ऊंचाई 359 मीटर होगी जो कि विश्व में सबसे अधिक है तथा यह 467 मीटर के आर्क स्पैन वाला बड़ी रेल लाइन का सबसे लंबे स्पैन वाला सेतु होगा.

आर्क फाउंडेशन स्थल का निरीक्षण किया गया
रेल राज्य मंत्री ने कौरी छोर पर मैन आर्क फाउंडेशन स्थल का निरीक्षण किया, जो एस-50 फाउंडेशन से जाना जाता है. रेल राज्य मंत्री ने वहां पर पूजा अर्चना की और मैन आर्क के फाउंडेशन लोकेशन पर ग्राउंटिंग वर्क के कार्य का शुभारंभ किया. मैन आर्क फाउंडेशन लेवल का कार्य चुनौती भरा कठिन कार्य है क्योंकि इसमें लगभग 3.5 लाख घन मीटर खुदाई स्लोप, रॉक बोल्टिंग तथा केबल एंकर बार का कार्य शामिल है. राजेन गोहेन ने इस स्थल पर किए जा रहे कार्य की सराहना की और उत्तर रेलवे, यूएसबीआरएल कोंकण रेलवे तथा एफकान्स के अधिकारियों के प्रयासों की भी सराहना की.

रेल राज्य मंत्री ने एस-180 वॉयडक्ट पोर्शन के कार्य स्थल का भी दौरा किया. उन्होंने 2.74 डिग्री के कर्व में वॉयडक्ट पोर्शन पर स्टील गर्डर पर किए जा रहे कार्य की अत्यधिक सराहना की, जो लगभग समापन की ओर है. यह भारतीय रेलवे पर पहला अवसर है कि तीव्र कर्व पर स्टील गर्डर का कार्य किया गया है. उन्होंने यूएसबीआरएल के कटरा-बनिहाल सेक्शन की प्रगति की समीक्षा भी की और वहां की प्रगति को देखकर उन्होंने प्रसन्नता जाहिर की कि इस कार्य का लगभग 40 प्रतिशत भाग पूरा कर लिया गया है जो कठिन मौसमों तथा भूगौलिक कठिनओं के चलते बहुत ही चुनौतिपूर्ण था.


राजेन गोहेन ने कौरी गांव के स्थानीय निवासियों से तथा ब्रिज स्थल पर मीडिया से बातचीत की और यह जानकर बहुत खुशी जाहिर की कि यूएसबीआरएल परियोजना के निर्माण से इस क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास में काफी योगदान मिला है तथा इस क्षेत्र में लगभग 200 किलोमीटर सड़क निर्माण से दूर-दराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को आने-जाने का रास्ता, शैक्षिणक ढांचा, चिकित्सा सुविधा में सुधार, गांवों में सोलर लाइट, शौचालय ब्लॉक यूनिट, पीने के पानी की आपूर्ति में वृद्धि, सड़क-पुल तथा कटरा-बनिहाल सेक्शन पर कई सुविधाएं उपलब्ध हुई हैं जो यहां के निवासियों के लिए बेहद उपयोगी हैं.

AAJ TA
K