Oct 18, 2016

ट्रेन के कोच में बढ़ाई जा रही बर्थ संख्या, अब 72 की जगह लगेंगी 80 बर्थ

दीपावली पर रेलवे ने यात्रियों को तोहफा दिया है। देश की कई ट्रेनों में अब 72 की बजाय 80 बर्थ वाले कोच लगाए जाएंगे। यानि कोचों में यात्रियों को बैठने के लिए अब अतिरिक्त जगह मिलेगी। शुरुआत पंजाब मेल व दक्षिण एक्सप्रेस से होगी।

बहुत जल्द यात्रियों के रिजर्वेशन और अधिक संख्या में कंफर्म हो सकेंगे। यह सुविधा ट्रेनों में नई टेक्नोलॉजी के मॉडिफाइड कोच लगने के साथ शुरू हो जाएगी। इन कोचों की स्लीपर श्रेणी में 72 की जगह अब 80 बर्थ मिल सकेंगी। यानि हर कोच में आठ-आठ अतिरिक्त बर्थ यात्रियों को और मिलेंगी। दीपावाली के आसपास दक्षिण एक्सप्रेस और पंजाब मेल में यात्रियों को यह नई सुविधा मिलेगी। इन गाड़ियों की एक-एक रैक में यह कोच लगाई जाएगी। 2017 के अंत तक देश की डेढ़ सौ से ज्यादा ट्रेनों में ऐसे कोच लगा दिए जाएंगे।
रेलवे सूत्रों के मुताबिक जिन यात्रियों को तीन से लेकर दस तक वेटिंग रह जाने से कंफर्म रिजर्वेशन नहीं मिल पाता, उनके लिए यह सुविधा अच्छी रहेगी। इस सुविधा के आने से विभिन्न श्रेणियों के यात्रियों को चार से लेकर आठ तक ज्यादा बर्थ मिलेंगी। रिजर्व सीटों की संख्या बढ़ने से आरएसी व वेटिंग भी क्लियर होगी।

2020 तक मिलेगा कंफर्म टिकट

आगरा। इस योजना के शुरू होने से रेलवे को मिलने वाले राजस्व में खासी बढ़ोतरी होगी। इस पैसे का उपयोग यात्री सुविधाओं पर होगा। रेल मंत्रालय ने वर्ष 2020 तक सभी यात्रियों को कंफर्म सीट देने का लक्ष्य रखा है। इसी योजना के तहत ट्रेनों के कोच में बर्थ संख्या बढ़ाई जा रही है। साल 2018 तक लगभग 175 लंबी दूरी की ट्रेनों में यह कोच लगाए जाएंगे। कपूरथला की कोच में फैक्टरी में इन्हें तैयार किया जा रहा है। विभिन्न श्रेणी के डेढ़ दर्जन से ज्यादा कोच तैयार भी कर लिए गए हैं।