Jan 21, 2017

महाबोधि एक्सप्रेस का विस्तार झाझा तक संभव नहीं : जीएम


जिलावासियों को शेखपुरा से सीधे दिल्ली तक ट्रेन से सफर का सपना अभी पूरा नहीं होगा। गया से दिल्ली तक जाने वाली महाबोधि एक्सप्रेस का विस्तार झाझा तक किये जाने के अटकलों पर विराम लगाते हुए हाजीपुर जोन के जीएम डीके गायन ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि महाबोधि का विस्तार झाझा तक नहीं किया जा सकता है। शुक्रवार को जीएम (रेल महाप्रबंधक) अपनी टीम के साथ स्पेशल ट्रेन से शेखपुरा स्टेशन पहुंचे तथा यात्री सुविधाओं का जायजा लिया। निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बात करते हुए जीएम ने कहा कि किऊल-गया रेलखंड के दोहरीकरण और विद्युतीकरण के लिए राशि मिल गई है। जल्द ही
इसपर काम शुरू हो जाएगा। इस रेलखंड पर नई ट्रेनों के परिचालन पर उन्होंने कहा कि यह निर्णय रेलवे वोर्ड से होता है। यहां से भी कुछ मांग पत्र मिले हैं जिसकी जांच कर वे अपनी अनुशंसा रेलवे वोर्ड को भेज देंगे।शेखपुरा-दनियावां रेल लाइन चालू होने लगेगा वक्तशेखपुरा - दनियावां नई रेलपथ पर ट्रेनों के परिचालन के संबंध में जीएम ने कहा कि अभी इसमें काफी समय लग सकता है। इस नई रेल लाइन का निर्माण कार्य पूरा होना अभी बाकी है। काम चल रहा है। निरीक्षण की होगी समीक्षाजीएम एवं उनके साथ आये अधिकारियों ने शेखपुरा रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया। जीएम ने स्वयं स्टेशन प्रबंधक कक्ष, आरक्षण काउंटर और स्टेशन परिसर के बाहर का जायजा लिया। करीब बीस मिनट तक वे स्टेशन पर बहाल यात्री सुविधाओं का बारिकी से मुआयना किया। उन्होंने कहा कि हाजीपुर जाकर इसकी समीक्षा करेंगे और जरूरत के अनुसार सुधार और बदलाव का निर्देश दिया जायेगा। जीएम के साथ डीआरएम आरके झा, सीपीटीएम उपेन्द्र सिंह सहित रेलवे के कई अधिकारी थे।स्टेशन की आमदनी बढ़ाने का दिया निर्देश रेलखंड में मालगाड़ी एवं पैसेंजर ट्रेनों से होनेवाले आय का भी महाप्रबंधक ने जानकारी ली। बताया गया कि मालगाड़ी से 1.38 करोड़ रुपये प्रतिमाह रेलवे को आमदनी होती है। जीएम ने स्टेशन प्रबंधक टीपी सिंह को निर्देश दिया कि यात्री सुविधाओं पर विशेष ध्यान दें। मांगों का ज्ञापन सौंपाशेखपुरा पहुंचे जीएम को कई नेताओं और सामाजिक संगठनों ने अलग-अलग मांग पत्र सौंपे। जदयू नेता प्रो. राजेंद्र यादव ने पांच सूत्री मांगों का ज्ञापन सौंपा, जिसमें महाबोधि एक्सप्रेस का विस्तार झाझा तक करने, शेखपुरा में रेलवे ट्रैक बनाने, गश से भागलपुर तक इंटरसिटी ट्रेन देने और हावड़ा से नई दिल्ली तक ट्रेन चलाने की मांग की है। जीएम ने ठोस कदम उठाने का आश्वासन दिया है। वही पिंटू चंद्रवंशी के नेतृत्व में ग्रामीणों ने जीएम को ज्ञापन सौंपा गया जिसमें गया से कटिहार तक भाया मुंगेर होते हुए इंटरसिटी ट्रेन चलाने और कौआकोल को रेलपथ से जोड़ने की मांग की है। इसके अलावा गंगा यादव द्वारा भी मांग पत्र सौंपा गया।जीएम के जाते ही खुल गईं दुकानेंजीएम के आगमन को लेकर पूरे स्टेशन परिसर को चकाचक कर दिया गया था। स्टेशन परिसर में खुले कई अस्थाई दुकानों को हटा दिया गया था, लेकिन जीएम के जाते ही पुन: सभी दुकानें स्टेशन परिसर में सज गईं।

livehindustan.