Dec 26, 2017

अब सीधे बर्खास्त होंगे शाराब पीकर ड्यूटी करने वाले रेलकर्मी

जागरण संवाददाता : यात्रियों की सुरक्षा व रेल हादसे कम करने को रेलवे ने पुरानी शराब नीति में संशोधन किया है। इसके तहत अब ड्यूटी में शराब पीने वाले रेलकर्मियों का निलंबन नहीं बल्कि उन्हें सीधे बर्खास्त कर दिया जाएगा। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने रेल मुख्यालयों को संशोधित शराब नीति की कॉपी भेज दी। दिलचस्प बात यह कि अब रेल कर्मचारियों की ब्रेथ एनालाइजर से जांच भी की जाएगी।

गौरतलब हो कि वर्ष 2010 में शराब नीति बनाने को एक कमेटी का गठन हुआ था। कमेटी की रिपोर्ट के बाद 2012 में शराब नीति बनाी थी। अब फिर से उस नीति में बदलाव किया गया है। इसके दायरे में पहले सिर्फ इंजन चालक ही आते थे, लेकिन अब नई नीति के दायरे में सभी रेलकर्मी होंगे। ट्रेनों के परिचालन से जुड़े रेलकर्मियों को श्रेणी एक तो बाकी को दो में रखा गया है। इस नीति के अनुसार ड्य़ूटी शुरू या समाप्त करते समय ट्रेनों के परिचालन से जुड़े रेलकर्मियों की जांच ब्रेथ एनालाइजर मशीन से होगी। इतना ही नहीं ऑन ड्यूटी रेलकर्मचारियों की टीम द्वारा औचक निरीक्षण कर भी जांच होगी। इतना ही नहीं सुपरवाइजर स्तर के अधिकारियों द्वारा अपने बाहरी लोगों से रेलकर्मचारियों के बारे में जानकारी हासिल की जाएगी, जिससे यह पता चलेगा कि कौन रेलकर्मी ड्यूटी के दौरान शराब के नशे में था।

चालकों की जांच होने के बाद ड्यूटी दी जाती है

इंजन चालक जैसे ही ड्यूटी के लिए आते हैं और हाजरी बनाने के लिए अपना अंगूठा मशीन में लगाते हैं उसी समय उनके मुंह की जांच ब्रेथ एनालाइजर मशीन द्वारा की जाती है। अगर मशीन में शराब पीने की पुष्टि होती है तो वह चालक की हाजरी लॉक हो जाती है फिर वह उस दिन इंजन चलाने के लिए नहीं जा सकता। इस लॉक को स्थानीय स्तर के पदाधिकारी नहीं खोल सकते। इस लॉक को फिर चक्रधरपुर मंडल में बैठे पदाधिकारी ही खोल सकते हैं।
- जागरण 



Translate in your language

M 1

Followers