Nov 15, 2017

Harbour Line Commuters Forced To Travel In Old, Retro-Fitted Trains Instead Of New Siemens Rakes

Harbour Line Commuters Forced To Travel In Old, Retro-Fitted Trains Instead Of New Siemens Rakes

Commuters have gone up in arms after hearing that the Central Railway (CR) will give up four of their better rakes in exchange for rickety retrofitted trains from Pune.

 In exchange, the Harbour line will get four of these 'retro' trains that are over 17 years old
In exchange, the Harbour line will get four of these 'retro' trains that are over 17 years old
CR commuters have long grumbled about having to ride in retro-fitted trains - anywhere between 17 to 22 years old - while their counterparts at Western Railway (WR) get to ride the shiny, new Bombardier rakes that began rolling in last year. In comparison, the best trains that CR has to offer are the decade-old Siemens rakes, but the commuters much prefer these over the rickety, 'retro' trains. The Harbour commuters get the worst deal of all, as most of these retro trains fall in their share. The Harbour line has only 25 of the beloved Siemens rakes, and now, the authorities are giving away four of these to Pune. In return, Harbour commuters will be saddled with yet more retro-fitted trains that nobody wants.

Complaining that they not only rattle with age, but are also stuffy and congested as compared to the more airy Siemens rakes
Complaining that they not only rattle with age, but are also stuffy and congested as compared to the more airy Siemens rakes

'Retro trains are hellholes'
Rajni Dolas, a trans-harbour passenger, said, "The retro trains on the Harbour line are hellholes. They are stuffy and congested, as compared to the Siemens trains on the main line of CR, and the swankier Bombardier rakes on WR. Now, Pune commuters will get our newer Siemens rakes, which means we will be stuck with the worst." "Many of the retro trains are in a bad condition and their maintenance is very poor. Harbour line commuters have been suffering for a long time, and it is high time that they get better trains," said Subhash Gupta from Rail Yatri Sangh Mumbai, also an ex-member of the National Zonal Railway Users Consultative Committee.

Commuters have described the retro trains as 'hellholes'
Commuters have described the retro trains as 'hellholes'

'Necessary measure'
Even as commuters protest that they are getting the short end of the stick yet again, CR officials said this is merely a necessary stop-gap measure. The Pune-Lonavala section was recently upgraded to 110kmph, but the retro trains were unable to keep pace, derailing the schedule of other long-distance trains as well. This affects several trains heading in and out of Mumbai as well. Officials said that this is why they decided to transfer the faster Siemens trains to Pune, as the Harbour line does not need much speed. However, the officials were quick with assurances that this does not mean commuters will have to suffer the old trains for long.

A senior CR official said, "This is just a stop-gap arrangement. New trains have started arriving from manufacturers, and the first one is already in place. Soon, we will replace the old fleet on Central Railway." The official added, "There is no step-motherly treatment. The only reason why the Harbour line still has old trains is because it was the last to get converted to AC power, by which time other lines started getting new trains." Akshay Ojha, a commuter, said, "WR got a fleet of the new Bombardier trains, and we have to make do with the decade-old Siemens and, worse yet, the retro trains. This is injustice. But a new Bombardier rake arrived for the Central line last week, and this has finally given us hope."
Source-Mid Day

BMC INSPECTOR SUSPENDED OVER HAWKERS NEAR STATION

BMC INSPECTOR SUSPENDED OVER HAWKERS NEAR STATION

Vendors found to be operating in no-hawking zone in Dadar in the presence of the inspector and BMC vehicle.

There is a new twist in the city's tussle with illegal hawkers. A BMC inspector has been suspended for allowing hawkers in a no-hawking zone - Dadar's D'Silva Road - on Tuesday. This is probably the first time somebody has been suspended for allowing hawkers within 150 meters of railway stations. The Elphinstone Railway station tragedy claimed 23 lives. After the tragedy, the Railways had undertaken a slew of measures to improve safety at railway stations, one of them being evicting illegal hawkers from within railway premises. MNS chief Raj Thackeray had also taken out a morcha on the Western Railway headquarters at Churchgate, demanding hawkers be evicted from all FOBs within a fortnight from then.
On Tuesday, certain residents saw hawkers doing business on D'Silva Road, a no-hawking zone while a BMC inspection vehicle (MH-01 AN 0685) stood within sight.

D'Silva Road falls within 150 meters of Dadar station and is supposed to be a no-hawking area. While the civic body has been cracking down in other parts of Dadar, hawkers were seen doing business freely here. What's more, the vehicle inspector, Vijendra Dhanavade, was present on the spot at around 3 pm.

Some residents clicked pictures of the site and sent them to MNS leader Sandip Deshpande, alleging open corruption. Deshpande took note of the issue and met assistant municipal commissioner (G North ward) Ramakant Biradar. Based on his complaint, Biradar suspended Dhanavade for a day for irresponsible behaviour and misconduct. The suspension order, a copy of which is with Mirror, terms the incident serious as he ignored orders. The one-day suspension is for Wednesday. "I think this is the first time in Mumbai that someone has been suspended for allowing hawking. I hope other staffers take this as a lesson," Biradar said.

Source-Mumbai Mirror

बुलेट ट्रेन के पक्ष में दिए रेल मंत्री के बयान ने सोशल साइट्स पर मचाया घमासान

बुलेट ट्रेन के पक्ष में दिए रेल मंत्री के बयान ने सोशल साइट्स पर मचाया घमासान

खास बातें

  1. पियूष गोयल ने बुलेट ट्रेन को भविष्य की मांग बताया
  2. कहा हर नई चीज के लिए पहले संधर्ष करना पड़ता है
  3. यात्रियों को सुरक्षित यात्रा कराना है हमारा लक्ष्य
नई दिल्ली: रेल मंत्री पियूष गोयल आम तौर पर सोशल साइट्स पर खासे सक्रिय हैं.वह आए दिन किसी न किसी मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया भी देते रहते हैं, लेकिन इन दिनों उनका का पोस्ट सोशल साइट्स पर खासा चर्चाओं में है. रेल मंत्री गोयल ने सोशल साइट पर 'क्या देश को बुलेट ट्रेन की जरूरत है?' जैसे पूछे जा रहे प्रश्न के जवाब में एक पोस्ट साझ किया. उन्होंने केंद्र सरकार का बचाव करते हुए बुलेट ट्रेन को भविष्य की मांग बताया.मंत्री के इस जवाब पर लोगों ने बड़ी संख्या में अपनी प्रतिक्रियां दी. महज 24 घंटे में रेल मंत्री के इस पोस्ट को सवा लाख से ज्यादा लोगों ने देखा और अपनी प्रतिक्रिया भी दी.

रेल मंत्री ने अपने जवाब में कहा कि "भारत की अर्थव्यवस्था लगातार विकास कर रही है, एेसे में कई तरह के विकास कार्यों की जरूरत है. इनमें से ही एक है देश में रेल के जाल को बढ़ाना और उसे आधुनिक बनाना है. हाई स्पीड ट्रेन क़ॉरिडोर भी इसका ही एक रूप है, जिसे हम बुलेट ट्रेन भी कहते हैं".
गोयल ने कहा कि मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट एनडीए सरकार की दूरदर्शिता को बताता है. इस प्रोजेक्ट के तहत हम यात्रियों को गति के साथ-साथ सुरक्षित और बेहतर सफर करा पाएंगे. सरकार की इस योजना से हम भारतीय रेल को विश्व पटल पर एक अलग पहचान दिला पाने में भी सफल होंगे.

अन्य रेल रूटों को बेहतर करने के सुझाव पर गोयल ने कहा कि हम समय के साथ सभी तकनीकी बदलाव के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि“नई तकनीक को समान्य तौर पर अपना पाने में थोड़ी दिक्कत तो आती ही है. इतिहास में झांके तो हम देखते हैं कि नई तकनीक और आधुनिकरण हमेशा से ही उस राष्ट्र के लिए फायदेमंद रहा है”.

रेल मंत्री ने राजधानी एक्सप्रेस का उदाहरण देते हुए कहा कि वर्ष 1968 में इस तेज रफ्तार गाड़ी को चलाने के विरोध में कई लोग थे. आज इसी राजधानी एक्सप्रेस से सफर करने के लिए हर कोई तैयार है. उन्होंने अपने पोस्ट में मोबाइल फोन का भी उदाहरण दिया. शुरुआत में सभी को लगता था कि मोबाइल फोन तकनीक को लेकर हमारा देश अभी तैयार नहीं है. आज हम विश्व में सबसे बड़ा मोबाइल फोन का बाजार है.

इसी तरह बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट भी यात्रियों के सुखद यात्रा को ध्यान में रखते हुए रेलवे में बड़े बदलाव की आहट है.गोयल ने बुलेट ट्रेन से जुड़ी विस्तृत रिपोर्ट भी साझा की.साथ ही उन्होंने बताया कि यह प्रोजेक्ट किस तरह से पीएम मोदी के मेक इन इंडिया के सपने को सकारा करने वाना है. जापान की तकनीक के इस्तेमाल से बनने वाली इस ट्रेन के चलने से हमारी अर्थव्यव्सथा में भी विकास होगा और हजारों नौकरियां पैदा होंगी.

रेल मंत्री पियूष गोयल आम तौर पर सोशल साइट्स पर खासे सक्रिय हैं.वह आए दिन किस न किस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया सोशल साइट्स के माध्य से देते भी रहते हैं, लेकिन इन दिनों उनका का बयान सोशल साइट्स पर खासी सुर्खियां बटोर रहा है.दरअसल, बुधवार को रेल मंत्री गोयल ने 'क्या देश को बुलेट ट्रेन की जरूरत है?' जैसे पूछे जा रहे प्रश्न के जवाब में सोशल साइट पर एक पोस्ट किया. उन्होंने केंद्र सरकार का बचाव करते हुए बुलेट ट्रेन को भविष्य की मांग बताया.मंत्री के इस जवाब पर लोगों ने बड़ी संख्या में अपनी प्रतिक्रिया दी. महज 24 घंटे में रेल मंत्री के इस पोस्ट को सवा लाख से ज्यादा लोगों ने देखा और अपनी प्रतिक्रिया भी दी.

रेल मंत्री ने अपने जवाब में कहा कि "भारत की अर्थव्यवस्था लगातार विकास कर रही है, एेसे में कई तरह के विकास कार्यों की जरूरत है. इनमें से ही एक है देश में रेल के जाल को बढ़ाना और उसे आधुनिक बनाना है. हाई स्पीड ट्रेन क़ॉरिडोर भी इसका ही एक रूप है, जिसे हम बुलेट ट्रेन भी कहते हैं".

गोयल ने कहा कि मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट एनडीए सरकार की दूरदर्शिता को बताता है. इस प्रोजेक्ट के तहत हम यात्रियों को गति के साथ-साथ सुरक्षित और बेहतर सफर करा पाएंगे. सरकार की इस योजना से हम भारतीय रेल को विश्व पटल पर एक अलग पहचान दिला पाने में भी सफल होंगे.

अन्य रेल रूटों को बेहतर करने के सुझाव पर गोयल ने कहा कि हम समय के साथ सभी तकनीकी बदलाव के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि“नई तकनीक को समान्य तौर पर अपना पाने में थोड़ी दिक्कत तो आती ही है. इतिहास में झांके तो हम देखते हैं कि नई तकनीक और आधुनिकरण हमेशा से ही उस राष्ट्र के लिए फायदेमंद रहा है”.

रेल मंत्री ने राजधानी एक्सप्रेस का उदाहरण देते हुए कहा कि वर्ष 1968 में इस तेज रफ्तार गाड़ी को चलाने के विरोध में कई लोग थे. आज इसी राजधानी एक्सप्रेस से सफर करने के लिए हर कोई तैयार है. उन्होंने अपने पोस्ट में मोबाइल फोन का भी उदाहरण दिया. शुरुआत में सभी को लगता था कि मोबाइल फोन तकनीक को लेकर हमारा देश अभी तैयार नहीं है. आज हमारा देश विश्व में दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन का बाजार है.

इसी तरह बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट भी यात्रियों के सुखद यात्रा को ध्यान में रखते हुए रेलवे में बड़े बदलाव की आहट है.गोयल ने बुलेट ट्रेन से जुड़ी विस्तृत रिपोर्ट भी साझा की.साथ ही उन्होंने बताया कि यह प्रोजेक्ट किस तरह से पीएम मोदी के मेक इन इंडिया के सपने को सकारा करने वाना है.

Source-NDTV

मेगा ब्लॉक के चलते रेल यात्रियों की बढ़ सकती है परेशानी

मेगा ब्लॉक के चलते रेल यात्रियों की बढ़ सकती है परेशानी

छत्तीसगढ़ के रायपुर में दक्षिण पूर्वी रेलवे के खड़गपुर रेल मंडल के अंतर्गत यार्ड के आधुनिकीकरण को लेकर 15 नवंबर से 19 नवंबर तक के लिए मेगा ब्लॉक किया गया है.

यार्ड के आधुनिकीकरण और तीसरी रेल लाइन को यार्ड से जोड़ने के साथ रेलवे स्टेशनों में आवश्यक रखरखाव और मरम्मत के लिए 5 दिनों के लिए मेगा ब्लॉक किया गया है. इससे हावड़ा-मुंबई-अहमदाबाद रूट की कुल 16 एक्सप्रेस और सुपरफास्ट ट्रेनों को रद्द किया गया है.

मेगा ब्लॉक की वजह से मेल, कुर्ला, गीतांजलि, अहमदाबाद समेत 20 ट्रेनें प्रभावित रहेंगी. तकरीबन सभी ट्रेनें एक या दो दिनों के लिए रद्द रहेंगी, साथ ही कुछ ट्रेनें आधे रास्ते में ही समाप्त कर वापस भेज दी जाएंगी.

इस बारे में ज्यादा जानकारी देते हुए सीनियर डीसीएम तन्मय मुखोपाध्याय ने कहा कि इस दौरान पूरी तरह से वैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित कराना संभव नहीं है. इसलिए रेलवे ने इस ओर ध्यान देते हुए सभी ट्रेनों को अगल-अलग दिन रद्द किया है, ताकि यात्रियों को ज्यादा परेशानी न हो. उन्होंने कहा कि इसमें रेलवे द्वारा एक दिन में सिर्फ एक या दो ट्रेनों को ही कैंसिल किया गया है.

बहरहाल, उन्होंने दक्षिण पूर्वी रेलवे के खड़गपुर रेल मंडल के अंतर्गत यार्ड के आधुनिकीकरण को लेकर कहा कि इससे आगामी दिनों में ट्रेनों की रफ्तार में तेजी आएगी. साथ ही इससे आने वाले दिनों में रेल यातायात और सुगम होगा.

Source-News 18

कैंट स्टेशन पर फर्स्ट एड की भी सुविधा नहीं

कैंट स्टेशन पर फर्स्ट एड की भी सुविधा नहीं

साबरमती एक्सप्रेस से दो दिन पहले बनारस पहुंची गर्भवती महिला को कैंट रेलवे स्टेशन पर लगभग दो घंटे तक डॉक्टरी मदद के लिए तड़पना पड़ा। इस वाकये से आदर्श कहे जाने वाले कैंट स्टेशन की चिकित्सा सुविधा की हकीकत सामने आ गई है। दुर्भाग्य से कोई यात्री सफर के दौरान बीमार हो कैंट स्टेशन पहुंच जाए तो उसकी हालत और खराब हो सकती है। क्योंकि यहां समुचित चिकित्सा व्यवस्था दूर की बात, फर्स्ट एड की भी सुविधा नहीं है। जिस स्टेशन पर 60 से अधिक ट्रेनें आती हैं, तकरीबन डेढ़ लाख यात्रियों की आवाजाही है, वहां पेट दर्द की सामान्य दवा भी नहीं मिलती।

मंगलवार को तो बनारस से जाने वाली वीआईपी ट्रेनों में भी फर्स्ट एड की सुविधा नहीं दिखी। ट्रेन मैनेजर ने तर्क दिया कि रेल अफसर इस संबंध में कभी कुछ कहते ही नहीं। यहां स्टेशन पर ह्वील चेयर है लेकिन शायद ही कभी इसका मरीजों के लिए इस्तेमाल होता हो। स्ट्रेचर कभी-कभार काम आ जाता है। दर्द, बुखार, पेट दर्द की सामान्य दवा भी यहां ढूंढ़े नहीं मिलेंगी। स्टेशन परिसर में न तो दवा की कोई दुकान है और न ही कहीं डॉक्टर व उसके स्टॉफ के बैठने का इंतजाम। अगर  चिकित्सक या स्वास्थ्यकर्मी मौके पर होते तो सोमवार को साबरमती एक्सप्रेस से उतरी प्रसव पीड़िता को राहत मिल सकती थी। डिप्टी स्टेशन अधीक्षक (कामर्शियल) कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार रोज तीन से चार केस बीमार यात्रियों के आते हैं। उन्हें तत्काल इलाज की जरूरत होती है।

कागजी कोरम में निकल जाता है समय

अगर ट्रेन में कोई यात्री बीमार पड़ जाये तो इलाज बिना मेमो के शुरू नहीं होता। मेमो प्रक्रिया पूरा करने में करीब आधा घंटा लग जाता है। तब तक बीमार यात्री तड़पता रहता है। डिप्टी स्टेशन अधीक्षक (कामर्शियल) फईम खान का कहना है कि फोन से सूचना देने पर यहां कोई स्वास्थ्य कर्मी नहीं आता। मेमो की मांग की जाती है। कागजी प्रक्रिया पूरी करने में समय जाया होता है।

वहीं सीएमएस उषा किरण का कहना है कि फोन से आधी-अधूरी सूचना दी जाती है। डॉक्टर और कर्मचारी स्टेशन पर जाकर भटकते रहते हैं। वह कई बार बिना मेमो के यात्रियों का इलाज किया जाता है।

ट्रेनों में नहीं थी चिकित्सकीय व्यवस्था

मंगलवार को कैंट स्टेशन से मुम्बई जाने वाली कामायनी एक्सप्रेस और राजगीर से नई दिल्ली जा रही श्रमजीवी एक्सप्रेस में कोई चिकित्सकीय व्यवस्था नहीं दिखी। नियमत: गार्ड और पैंट्री कार मैनेजर के पास प्राथमिक उपचार की पेटी होनी चाहिए। श्रमजीवी एक्सप्रेस के मैनेजर अखिलेश सिंह ने बताया कि उनके यहां ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। ना ही रेल अफसर इसके लिए कभी कहते हैं। यही हाल कामायनी एक्सप्रेस का भी था।

न हेल्पलाइन नंबर, ना ही डिस्प्ले बोर्ड 

कैंट स्टेशन पर स्वास्थ्य संबंधी सहायता के लिए कोई हेल्पलाइन नंबर भी नहीं है। ना ही स्वास्थ्य संबंधी डिस्प्ले बोर्ड ही कहीं लगाया गया है।

एक डॉक्टर और दो फार्मासिस्ट के सहारे इलाज

कैंट स्टेशन के पास नार्दर्न रेलवे का अस्पताल एक चिकित्सक तथा दो फार्मासिस्ट के सहारे चल रहा है। सीएमएस उषा किरन के मुताबिक औसतन 75 मरीज रेलवे कॉलोनियों के आते हैं। करीब 25 रेलवे कर्मचारियों की मेडिकल भी रोज करनी होती है। इस दौरान बीमार यात्रियों की भी मदद की जाती है।

निजी डॉक्टरों की भी ले सकते हैं सेवा 

रेलवे चिकित्सक के न होने की स्थिति में बीमार यात्री के इलाज के लिए बाहर से भी चिकित्सक मुहैया कराये जा सकते हैं। इसके लिए डिप्टी स्टेशन अधीक्षक कामर्शियल कार्यालय में निजी चिकित्सकों की सूची लगी है। यहां डिप्टी स्टेशन अधीक्षक फईम खान बताते हैं कि अब तक किसी बाहरी चिकित्सक की मदद नहीं ली गई है।

Source-Live Hindustan

South Western Railway to discuss ‘major’ changes to train services with Surrey commuters

South Western Railway to discuss ‘major’ changes to train services with Surrey commuters

Surrey commuters are being given the opportunity to discuss "major" changes to train services as a new timetable is expected to be introduced in December 2018.

South Western Railway (SWR) has organised six public consultation events across the south east, including two meetings in Surrey.

The first is planned for this Friday (November 17) from 7am to 10am at Woking station and the second is on Monday (November 27) from 4.30pm to 7.30pm at Egham station.

According to a statement on SWR's website, the consultation is a "major step towards the delivery of improvements to services".

Events have already taken place in Basingstoke and Southampton, while others are also planned for later this month in Bournemouth and Surbiton.

The proposed timetable changes, which will be reviewed after the meetings, are part of SWR's promise to deliver "new and better trains, more seats, improved service frequencies and quicker journey times".

Andy Mellors, SWR's managing director, said: "It is really important that we receive feedback on our proposals, whether positive or otherwise, in order that we implement a timetable which best meets the requirements of our existing customers, potential customers and the communities which we serve."

But even though SWR said there would be 17 additional peak services arriving into London Waterloo every morning, some Surrey commuters have expressed their concerns.

Chertsey resident David Cordery, who commutes to Vauxhall during the week, said that under the proposals he would have to catch a shuttle service to get to work.

In a letter to the Surrey Advertiser, Mr Cordery wrote: "Addlestone and Chertsey appear to be getting a worse service under this new timetable.

"At present the train to London takes over an hour, but at least once you are on the train you know you are getting there.

"However, having to get on two or three trains, you are dependent on all trains running on time."

Mr Cordery has encouraged other Surrey residents to review the timetable proposals and provide feedback.

Source-Get Surrey


Florida Railway Shows Off LNG Operations

Florida Railway Shows Off LNG Operations

Florida East Coast (FEC) Railway provided an exclusive tour of its LNG (liquid natural gas) operations at its Jacksonville facility this week. Tour participants came from a wide range of industries, including marine, rail, mining, E&P, power gen operations.

Interested attendees came from Columbia, Japan, Korea and Canada to attend. Also in attendance were FRA officials, Class 1 Railroad employees and Railway Age. The tour was part of the annual Natural Gas for High Horse Power (HHP) summit, which was held in downtown Jacksonville Nov 6-9.

The tour included several demonstration stations where FEC’s LNG experts were available to answer questions to attendees on the various aspects of its use of LNG. The stations included two LNG-powered locomotives with tender car between, fueling station, ISO container, LNG-powered truck and a tour of the railway’s historic business cars.

“We are proud to be the first North American Railroad to operate its entire mainline fleet on LNG”, said Fran Chinnici, Chief Operating Officer. “We hope that our efforts will help other railroads and industries with this paradigm shift.”

FEC gave an overview of the fueling process as well. The locomotives utilize an LNG “kit” that allows for dual fuel capabilities. FEC’s LNG-Diesel engine technology burns 80% less diesel fuel, resulting in an 80% reduction in Nitrogen Oxides (NOx) emissions. Natural gas also gives off roughly half the carbon dioxide emissions as coal when burned for electricity, and little to no emissions of sulfur dioxide, nitrogen oxides or particulate matter.

Pioneering the use of LNG as Locomotive Fuel
FEC Railway pioneered the use of LNG as an alternative to diesel for its locomotives as a key part of its overall sustainability objective. Natural gas is abundant, clean burning and economical. Compared to diesel fuel, it reduces locomotive emissions and helps improve the environmental quality of the railway’s operations.

FEC has been operating on LNG since late 2015 and completed the conversion of its entire mainline thru-haul fleet to run on fuel-efficient LNG this year. Its regional trucking business, Raven Transport, also utilizes LNG and converted 44% of its fleet to run on the fuel. As of October 2017, FEC completed over 2,300 trips traveling more than 850K miles while consuming more than 2.7M gallons of LNG.

Transporting LNG
Rail transportation creates a virtual pipeline for LNG. FEC Railway is beginning to explore additional opportunities around the transport of LNG as a commodity. Working under authority provided by Federal Railroad Administration (FRA) the railway is currently moving LNG containers between New Fortress Energy’s liquification plant in Hialeah and PortMiami and Port Everglades.

About FEC Railway
Florida East Coast Railway has invested in infrastructure to support multi-modal shipping and global trade into and out of South Florida, along with our partners at PortMiami, Port Everglades and Port of Palm Beach. With an on-dock intermodal rail facility at PortMiami and a state-of-the-art Intermodal Container Transfer Facility adjacent to Port Everglades, Florida East Coast Railway provides safe, efficient and reliable intermodal rail service to ocean carriers, reaching 70 percent of the US population within 4 days. FEC Railway also assists with transloading international freight into domestic containers to quickly reach inland markets throughout the U.S.

Source-NGV Global