Jun 22, 2018

रेलवे: एसी वेटिंग रूम में भी लगा करेगा चार्ज, शुरुआत दिल्ली से



नई दिल्ली और निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के एसी वेटिंग रूम में इंतजार करने के लिए अब पैसेंजरों को चार्ज देना होगा। दरअसल दिल्ली डिवीजन इन दोनों रेलवे स्टेशन के वेटिंग रूम का पीपीपी मॉडल के तहत कायाकल्प करने जा रहा है। 4 कंपनियों की ओर से प्रजेंटेशन भी दी गई है। जिस कंपनी का प्रस्ताव सबसे बेहतर होगा उसे वेटिंग रूम का जिम्मा दिया जाएगा।

इसके लिए जल्द टेंडर अलॉट करने की प्रक्रिया चल रही है। उम्मीद है कि अगले एक-दो महीने के भीतर रेनोवेशन का काम शुरू हो जाएगा। ये दोनों देश के पहले ऐसे स्टेशन होंगे जहां वेटिंग रूम प्राइवेट कंपनी संभालेगी। यह एक पायलट प्रॉजेक्ट भी। प्रॉजेक्ट के कामयाब होने के बाद देश के अन्य रेलवे स्टेशनों पर भी इसी तरह की व्यवस्था को लागू किया जाएगा। 

अब गहरे पीले और भूरे रंग में नजर आएगी मेल व एक्सप्रेस ट्रेन



रेलवे द्वारा मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों को नए रंग में रंगा जाएगा। इसके तहत शताब्दी रैंक वाली ट्रेनों को छोड़ सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का रंग गहरा पीला और भूरा हो जाएगा। रेलवे ने काफी सालों पहले ट्रेन के कोच के रंग में बदलाव किया था।

उस समय में हलके लाल रंग के कोच होते थे,उनको गहरे नीले रंग में बदला गया था। रेलवे अधिकारियों के अनुसार नए रंग में रंगने वाली पहली ट्रेन दिल्ली-पठानकोट एक्सप्रेस होगी। 16 कोच वाली इस ट्रेन को पेंट किया जा रहा है, जो इसी माह के अंत तक पटरी पर दौड़ेगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रंग बदलने की मंजूरी दे दी है।

TRACK MAN OF INDIAN RAILWAY

Image may contain: 1 person

IRFCA Loco Pilot applies Brake, Dynamic Braking full process in WDP4 Engine












जोनल स्टेशन के नलों की टोटी सूखी, पानी के लिए भटकते रहे यात्री



जोनल स्टेशन में गुरुवार की सुबह पानी सप्लाई ठप हो गई। नलों की टोटी सूखने के कारण यात्रियों को पानी के लिए भटकना पड़ा। टंकी में पानी नहीं भरने के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई। दोपहर बाद स्थिति सामान्य हो पाई। पानी सप्लाई बंद होने से प्लेटफार्म में किसी भी नल से पानी नहीं आ रहा था। इसके अलावा वाटर कूलर भी सूख गए। भीषण गर्मी में प्लेटफार्म में पानी नहीं होने से यात्रियों को इधर उधर भटकना पड़ा। प्यास बूझाने यात्रियों को बोतल बंद पानी लेना पड़ा।

Source - Nai Duniya 

लंबी दूरी की ट्रेनें बढ़े तो कम होगी फजीहत



सहरसा से लंबी दूरी की ट्रेन बढ़े तो यात्रियों की फजीहत कम होगी। लेकिन विडम्बना यह कि बड़ी रेललाइन से जुड़ने के 12 साल बाद भी दिल्ली के लिए सहरसा से रोज ट्रेन नहीं है।महानगर मुंबई, बंगलुरू, चेन्नई के अलावा दर्शनीय स्थल जम्मू कश्मीर, वाराणसी, इलाहाबाद, मथुरा, उज्जैन सरीखे देवस्थलों से रेल नेटवर्क पर नहीं जुड़ पाया है।

इन जगहों के लिए ट्रेन नहीं रहने के कारण बरौनी, पटना सहित अन्य स्टेशनों पर जाकर ट्रेन पकड़नी पड़ती है। जनप्रतिनिधियों के आश्वासन के बाद भी सहरसा से सप्ताह में दो-दो दिन चलने वाली पुरबिया, हमसफर एक्सप्रेस और तीन दिन परिचालित होने वाली गरीब रथ एक्सप्रेस रोज नहीं चलाई गई है।

Metro lessons



In the last week of May, Delhi Metro added a new corridor, extending its coverage by more than 25 km. The rail transit system’s network today spans 277 km of the National Capital Region (NCR). But worryingly, fewer people use this mode of transport today compared to 2015, when the metro covered less than 200 km. On Thursday, this newspaper reported that the metro’s daily ridership has fallen from nearly 24 lakh in 2015 to around 22.5 lakh in May. The data shows that the transit system has not recovered from a nearly 100 per cent fare hike eight months ago. Before the hike, in September last year, the metro was the preferred daily mode of commute for more than 27 lakh people.

BULLET TRAIN PROJECT: Gujarat HC seeks govt’s reply on farmers’ plea against land acquisition



The Gujarat High Court on Thursday sought the state government’s response to a bunch of petitions filed by farmers of Surat seeking quashing of a notification issued by District Collector for acquisition of land for the Ahmedabad-Mumbai bullet train project.

The farmers, in their petitions, have said that the Collector has not followed the provisions prescribed under the Centre’s land acquisition law.

Bullet Train project: Gujarat High Court seeks govt’s reply on land acquisition



The Gujarat High Court on Thursday sought the state government’s response to a bunch of petitions filed by farmers of Surat seeking quashing of a notification issued by District Collector for acquisition of land for the high-profile Ahmedabad-Mumbai bullet train project.

The farmers, in their petitions, have said that the Collector has not followed the provisions prescribed under the Centre’s land acquisition law — Right to Fair Compensation and Transparency in Land Acquisition, Rehabilitation and Resettlement Act — of 2013.

SCR meets 100% LED target before deadline



The South Central Railway (SCR) has become the first 100% LED (Light Emitting Diode) lit zone of the Indian Railways, achieving the milestone by June 20 well before the target date of June 30 set by Union Railway Minister Piyush Goyal. In a press release issued here on Thursday, the SCR said that it had achieved the distinction by installing 1,64,291 LED bulbs in place conventional ones in 23,740 railway residential quarters in the zone. This is expected to result in saving of 35.4 lakh units of electrical energy and reduction of power bill to the tune of Rs 3 crore per annum apart from cut in carbon emission by 3,187 tonnes per year.

Railways allots `20 cr for development works in Vijayawada division



The Ministry of Railways has allocated ` 20 crore for the fiscal year 2018-19 to execute various development works in the Vijayawada Division of South Central Railway (SCR) station premises.

According to the officials, the Vijayawada division had sent a proposal for Rs. 32 crore to execute development activities to the Railway Board a few months ago.

As part of the activities, the officials have decided to construct a new foot-over bridge connecting platform number 1 with 10. The existing foot-over-bridge connecting platform number 1 and 6 was constructed four decades ago. Proposal to install escalators in all ten platforms of the station at an estimated cost of ` 18 crore to avoid inconvenience for the passengers is also under consideration.


Source - IE

SCR GM urged to develop Tirupati station



Former YSRC MP Vara Prasad Rao met South Central Railway (SCR) General Manager Vinod Kumar Yadav at Rail Nilayam, Secunderabad on Thursday and appealed to him to evolve necessary steps for modernisation of Tirupati Railway Station at an estimated cost of `491 crore. 

The plans include construction of an eight-storeyed new railway station building with all modern facilities. These include a hotel block, multiplex, railway station plaza, food courts, exclusive departure concourse, drop off zone, waiting lounges etc.Former YSRC MP Vara Prasad Rao met South Central Railway (SCR) General Manager Vinod Kumar Yadav at Rail Nilayam, Secunderabad on Thursday and appealed to him to evolve necessary steps for modernisation of Tirupati Railway Station at an estimated cost of `491 crore. 

Translate in your language

M 1

Followers