Jun 15, 2019

RAILWAY CIRCULARS & ORDERS: ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2019...

RAILWAY CIRCULARS & ORDERS: ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2019...: Last year Esttb..Rues ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2019                                                        Last yea...

RAILWAY CIRCULARS & ORDERS: ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2018...

RAILWAY CIRCULARS & ORDERS: ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2018...: ESTABLISHMENT RULES COMPENDIUM OF ESTABLISHMENT RULES ESTABLISHMENT RULES PUBLISHED DURING THE YEAR 2018 Estt.Rule RBE No/ L.No. ...

Jun 14, 2019

Cabinet approves signing of Memorandum of Understanding between India and Russia in the field of Railways

Cabinet approves signing of Memorandum of Understanding between India and Russia in the field of Railways

Cabinet approves signing of Memorandum of Understanding between India and Russia in the field of Railways

Cabinet approves signing of Memorandum of Understanding between India and Russia in the field of 

Railways



The Union Cabinet, chaired by the Prime Minister Shri Narendra Modi, was apprised of a Memorandum of Understanding on the cooperation between Research Designs and Standards Organisation, under the Ministry of Railways, India and Railway Research Institute, Russia and Research and Design Institute for Information Technology, Signalling and Telecommunication on Railway Transport, Russia.
The MoU will facilitate exchange of information, expert meetings, seminars, technical visits and implementation of jointly agreed cooperation projects.
The MoU was signed in April, 2019.

Use technology to improve governance and timely delivery of services to citizens: Vice President



Use technology to improve governance and timely delivery of services to citizens: Vice President



Use technology to improve governance and timely delivery of services to citizens: Vice President

Digitization ensures transparency, builds confidence among investors;

Channelize the energy of young minds to make India the next economic power;

Tap the potential of technology to improve ease of business & enhance ease of living and happiness quotient;


PROPOSED NEW DESIGNATIONS OF INDIAN RAILWAY TRAFFIC SERVICE (IRTS) OFFICERS



PROPOSED NEW DESIGNATIONS OF INDIAN RAILWAY TRAFFIC SERVICE (IRTS) OFFICERS


वंदे भारत एक्सप्रेस लखनऊ से भी चलाने की तैयारी, पहले इस Route पर दौड़ेगी ट्रेन

वंदे भारत एक्सप्रेस लखनऊ से भी चलाने की तैयारी, पहले इस Route पर दौड़ेगी ट्रेन

देश की सबसे तेज गति से दौड़ने वाली स्वदेश निर्मित ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस का तोहफा राजधानीवासियों को भी मिल सकता है। रेलवे बोर्ड ने लखनऊ से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन चलाने के लिए मंथन शुरू कर दिया है। बोर्ड ने उत्तर रेलवे और उत्तर मध्य रेलवे से ट्रेन के टाइम टेबल और इसके संचालन की संभावनाओं का प्रस्ताव मांगा है। पिछले दिनों दोनों ही जोनल के अधिकारियों के साथ रेलवे बोर्ड में नई दिल्ली-कानपुर-लखनऊ रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस को चलाने के लिए एक बैठक भी हुई। ट्रेन को सुबह लखनऊ से नई दिल्ली तक चलाने की तैयारी की जा रही है। बोर्ड इस रूट पर तेजस एक्सप्रेस की जगह वंदे भारत एक्सप्रेस को चला सकता है।
Also Read - WORLD HAPPINESS IS AT ITS LOWEST IN 10 YEARS ACCORDING TO THIS NEGATIVE INDEX EXPERIENCE

लखनऊ निवासी एस. मणि की टीम ने रेल कोच फैक्ट्री चेन्नई में बिना इंजन वाली सेमी हाई स्पीड ट्रेन 18 को तैयार किया था। बाद में ट्रेन 18 का नाम वंदे भारत एक्सप्रेस रखा गया। यह ट्रेन 220 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दौड़ने में सक्षम है। पहली वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली से प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक 15 फरवरी से शुरू हुई थी। टेन का नया रैक उत्तर रेलवे जोनल को आवंटित किया गया है।
उत्तर रेलवे दो प्रमुख रूटों पर इसे चलाने पर विचार कर रहा है। एक रूट नई दिल्ली से चंडीगढ़ के बीच का है। जबकि दूसरे रूट नई दिल्ली से लखनऊ के बीच वंदे भारत को चलाने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक लखनऊ से कानपुर के बीच तो वंदे भारत एक्सप्रेस की गति कम रहेगी। कानपुर से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन 130 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से दौड़ेगी।
Source - Jagran

छत्तीसगढ़ सरकार ने ठुकराई केंद्र की ‘आयुष्मान भारत’ योजना, BJP सांसद ने रेलवे के अस्पतालों में लागू कराया

छत्तीसगढ़ सरकार ने ठुकराई केंद्र की ‘आयुष्मान भारत’ योजना, BJP सांसद ने रेलवे के अस्पतालों में लागू कराया

छत्तीसगढ़ में आयुष्मान योजना को लेकर एक बार फिर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने हो सकती है. राज्य की कांग्रेस सरकार ने आयुष्मान योजना में बहुत ज्यादा दिलचस्पी न दिखाते हुए यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम पर फोकस किया हुआ है. लेकिन छत्तीसगढ़ में रायपुर के सांसद सुनील सोनी ने रेलवे प्रशासन से बात कर छत्तीसगढ़ के रेलवे अस्पतालों में आयुष्मान योजना को लागू करने के लिए हरी झंडी ले ली है. बड़ी बात यह है कि रेलवे के इस अस्पताल में आयुष्मान योजना के तहत गैर रेलवे कर्मचारी भी इलाज करवा सकेंगे. इस खबर के बाद यह साफ हो गया है कि आयुष्मान योजना को लेकर केंद्र की एक समानांतर व्यवस्था छत्तीसगढ़ में लागू होने जा रही है.
वर्तमान में आयुष्मान योजना छत्तीसगढ़ के सरकारी अस्पतालों में लागू तो है लेकिन कांग्रेस इस योजना से सहमत नहीं है. कांग्रेस इस योजना के बजाय यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम को लेकर योजना लागू करने की तैयारी में है जिसके प्रयास लगभग अंतिम चरण में है.
Also Read - HERE’S HOW THE QUALITY OF YOUR DIET AFFECTS YOUR MENTAL WELL BEING

रायपुर के सांसद सुनील सोनी ने हाल ही में एम्स अस्पताल के लिए सरोना रेलवे स्टेशन से सड़क बनवाने पर जोर दिया था..स्टेशन से यह सड़क अस्पताल तक रेलवे और एम्स प्रशासन मिलकर बनाने जा रहा है और अब छत्तीसगढ़ के केंद्र सरकार के अधीन अस्पतालों में आयुष्मान योजना की शुरुआत होने जा रही है.
सांसद सुनील सोनी ने बताया कि इस संबंध में डीआरएम से बातचीत की और कहा आयुष्मान योजना सबसे बड़ी योजना है रेलवे के अस्पतालों में इसे लागू करने के बाद बाहर के लोग भी इलाज करवा सकेंगे. आयुष्मान योजना को केंद्र सरकार को घेरने वाली कांग्रेस ने इस योजना के अस्तित्व पर सवाल उठाया था.
वर्तमान में यह योजना लागू तो है लेकिन कांग्रेस इसे बीमा कंपनियों से मरीजों को मुक्त कराना चाहती है. कांग्रेस के महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी का कहना है कि इस योजना से कांग्रेस इसलिए सहमत नहीं है क्योंकि निजी कंपनियां बीमा के जरिए इस योजना से इतना लाभ कम आती है.
उसका फायदा लोगों को नहीं मिल पाता कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में यूनिवर्सल हेल्थ केयर योजना को लागू करने की तैयारी कर रही है जिसके जरिए सभी लोग संपूर्ण इलाज के दायरे में आएंगे जिसमें बीमा कंपनियों का कोई रोल नहीं होगा. जबकि रेलवे में इसे शुरू करने का तो यह केंद्र सरकार का अधिकार है.
Source - Zee News

हिसार एयरपोर्ट पर बनेगा अंडर ग्राउंड रेलवे स्टेशन, 90 मिनट में हिसार से दिल्ली जा सकेंगे

हिसार एयरपोर्ट पर बनेगा अंडर ग्राउंड रेलवे स्टेशन, 90 मिनट में हिसार से दिल्ली जा सकेंगे

दिल्ली जाने वालों के लिए खुशखबरी है। हिसार से दिल्ली का 170 किलोमीटर का सफर है। आमतौर पर एक्सप्रेस ट्रेन हिसार से दिल्ली जाने में करीब पांच घंटे का समय लेती है। अब 90 मिनट यानी डेढ़ घंटे में मुसाफिर दिल्ली पहुंच सकेंगे। हिसार एयरपोर्ट को कामयाब बनाने और दिल्ली के यात्री हिसार से सस्ती हवाई सेवा का लाभ उठा सकें इसके लिए हिसार-दिल्ली के बीच हाई स्पीड ट्रेन चलाई जाएगी। इसको लेकर सरकार, जिला प्रशासन और रेलवे अधिकारियों के बीच प्रिसिपल मंजूरी मिल गई है। यह ट्रेन बीच में कहीं नहीं रूकेगी।
एग्रीमेंट होने के साथ ही इस प्रोजेक्ट पर तेजी से काम शुरू हो गया है। इसके लिए दिल्ली-हिसार के बीच में रेलवे के कुछ हिस्से को अपग्रेड भी किया जाएगा। हांसी-महम रेल लाइन पूरी होने के बाद इस प्रोजेक्ट के तहत ट्रेन शुरू होने की उम्मीद है। इसका स्टेशन भी हिसार एयरपोर्ट के नीचे अंडर ग्राउंड बनाया जाएगा। इसमें शहरवासी भी सफर कर सके इसको लेकर बातचीत बाकी है। हिसार में सात हजार एकड़ से ज्यादा जमीन पर अंतरराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट का निर्माण चल रहा है। दिल्ली से आम आदमी यहां आकर फ्लाइट पकड़ सके और उसको आने जाने में दिक्कत न हो इसको लेकर रेलवे स्टेशन का निर्माण किया जाना है।
महम-हांसी रेल लाइन से जुड़ेगा एयरपोर्ट
हिसार एयरपोर्ट को महम-हांसी रेल लाइन से सीधा जोड़ा जा सकेगा। इसके लिए रेलवे डीपीआर तैयार कर रहा है। ऐसा करने से भिवानी जाने के बजाय सीधा ट्रेन से महम द्वारा हांसी से हिसार एयरपोर्ट आया जा सकेगा। ऐसा करने से दिल्ली से हिसार की दूरी सिर्फ 90 मिनट की रह जाएगी। अभी हिसार से दिल्ली जाने में करीब पांच घंटे से अधिक का समय लगता है।
आम आदमी भी कर सके सफर
एयरपोर्ट में जमीन के नीचे बनने वाले रेलवे स्टेशन से आम आदमी भी सफर कर सके इसकी व्यवस्था करने की योजना है। इससे फायदा यह होगा कि कम टिकट की राशि में वह जल्दी हिसार से दिल्ली पहुंच सकेगा। इसको लेकर एक विशेष व्यवस्था की जा सकती है ताकि नीचे से ही मुसाफिर एयरपोर्ट पर सुरक्षा व्यवस्था के बीच से जा सके।
इधर, सिविल एविएशन ने नॉन शेड्यूल फ्लाइट के लिए चौथी बार फिर लगाया टेंडर
हिसार से दिल्ली, चंडीगढ़, देहरादून, जम्मू और जयपुर के बीच हवाई सेवाएं शुरू होने की फिर से आस जगी है। 15 अगस्त 2018 को एयरपोर्ट के विधिवत उद्घाटन के बाद सरकार अब तक तीन बार टेंडर लगा चुकी है। मगर तीनों बार टेंडर एक्सटेंड करने के बावजूद प्राइवेट ऑपरेटरों ने हवाई सेवा शुरू करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। अब सरकार ने चौथी बार इन पांच रूटों पर हवाई सेवा शुरू करने को टेंडर लगाया है। 5 जून को यह टेंडर लगाया है जो 26 जून को ओपन होगा। टेंडर में इस बार एक भी प्राइवेट एजेंसी ने आवेदन किया तो उसे एयरपोर्ट पर जहाज उड़ाने की परमिशन दे दी जाएगी। सरकार आगामी विधानसभा चुनाव से पहले उड़ान स्कीम (उड़े देश का आम नागरिक) के तहत हिसार एयरपोर्ट से सस्ती हवाई सेवाएं शुरू करना चाहती है।
ये भी पढ़े - लिवर की बीमारी होने से पहले शरीर से मिलते हैं ये 7 संकेत…

ये होंगे उड़ान के रेट
उड़ान स्कीम के तहत किराया : 1450 रुपये
राज्य सरकार वहन करेगी : 1500 रुपये प्रति टिकट
केंद्र सरकार वहन करेगी: 1500 रुपये प्रति टिकट
प्राइवेट एजेंसी के पास जाएंगे : 4450 रुपये इन रूटों पर उड़ान शुरू करने की है योजना
हिसार-दिल्ली
हिसार-चंडीगढ़-देहरादून
हिसार-चंडीगढ़-जम्मू
हिसार-जयपुर
हिसार-चंडीगढ़
रेलवे के साथ इन प्रिसिपल मंजूरी हाई स्पीड ट्रेन चलाने को हो गई है। इस प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए कदम बढ़ गए है। कुछ हिस्से को अपग्रेड करने का किया जाएगा।
Source - Jagran

रेलवे ने कैंसल की ये ट्रेनें, कई स्पेशल ट्रेनें शुरू

रेलवे ने कैंसल की ये ट्रेनें, कई स्पेशल ट्रेनें शुरू

चक्रवात 'वायु' को देखते हुए सरकार और प्रशासन के साथ-साथ रेलवे भी कमर कस चुका है. रेलवे की चौकसी का सबसे ज्यादा असर महाराष्ट्र और गुजरात में देखने को मिला. 'Vayu' चक्रवात की वजह गुजरात में कुछ ट्रेनें पूरी तरह से, तो कुछ आंशिक रूप से रद्द कर दी गई हैं. ये ट्रेनें शुक्रवार तक रद्द रहेंगी.
इसके साथ ही रेलवे अधिकारियों को राहत कार्यों के लिए कर्मचारियों के साथ-साथ जेसीबी मशीन, पेड़ काटने के उपकरण और पानी के टैंक आदि तैयार रखने के निर्देश दिए गए हैं.
पश्चिम रेलवे की ओर से जारी प्रेस रिलीज में बताया गया है कि वेरावल, ओखा, पोरबंदर, भावनगर, भुज और गांधीधाम को जाने वाली सभी पैसेंजर, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों को गुरुवार शाम 6 बजे से शुक्रवार सुबह तक या तो पूरी तरह से या आंशिक रूप से कैंसल कर दिया गया है.
ये भी पढ़े - सिर्फ खूबसूरती ही नहीं खानपान में भी काफी अलग है भूटान

इसके अलावा गांधीधाम, भावनगर पारा, पोरबंदर, वेरावल और ओखा से स्पेशल ट्रेन चलाई जाएंगी, जिससे इन इलाकों से लोगों को निकाला जा सके.
Train no.- 52933- वेरावल से अमरेली
Train no.- 52949- वेरावल से देलवाड़ा
Train no.- 52930- अमरेली से वेरावल
Train no.- 52951- देलावड़ा से जूनागढ़
Train no.- 52956- जूनागढ़ से देलवाड़ा
Train no.- 52955- अमरेली से जूनागढ़
Train no.- 52952- जूनागढ़ से देलवाड़ा
Train no.- 52946- अमरेली से वेरावल
Train no.- 52929- वेरावल से अमरेली
Train no.- 52950- देलवाड़ा से वेरावल
स्पेशल ट्रेनें गांधीधाम, भावनगर पारा, पोरबंदर, वेरावल और ओखा से चलकर प्रभावित इलाकों से लोगों को बचाकर लाने का काम करेंगी.
पश्चिम रेलवे ने बताया कि इन स्पेशल ट्रेनों में 6-10 डिब्बे होंगे. इन्‍हें सबसे नजदीक के सुरक्षित स्थान पर रखा जाएगा, ताकि लोगों को आपात स्थिति में सुरक्ष‍ित जगहों पर भेजा जा सके. रेलवे आपातकालीन नियंत्रण कार्यालय 24 घंटे चलने के इंतजाम किए गए हैं.
Source - The Quint

दिल्ली-एनसीआर के रेलवे स्टेशनों पर लगेंगे 20 नए एस्केलेटर

दिल्ली-एनसीआर के रेलवे स्टेशनों पर लगेंगे 20 नए एस्केलेटर

दिल्ली-एनसीआर के छह रेलवे स्टेशनों पर 20 नए एस्केलेटर लगाए जाएंगे। रेलयात्रियों की बढ़ती संख्या से सीढ़ियों पर बने दबाव और बुजुर्ग, दिव्यांग व बीमार यात्रियों को चढ़ने-उतरने में हो रही परेशानी को कम करने के लिए यह निर्णय लिया गया है।
राजधानी में अभी नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को छोड़कर अन्य स्टेशनों पर एस्केलेटर की संख्या पर्याप्त नहीं है। ऐसे में यात्री सुविधाओं में इजाफा करते हुए रेलवे बोर्ड ने उत्तर रेलवे के पांच मंडलों में कुल करीब 56 एस्केलेटरों को लगाने के लिए मंजूरी दी है। बोर्ड ने नए एस्केलेटरों को लगाने का काम जल्द पूरा करने के लिए कहा है।
ये भी पढ़े - सिर्फ माउथफ्रेशनर से कहीं ज्यादा गुणकारी है सौंफ, जानें और बहुत से चमत्कारी गुण

पुरानी दिल्ली स्टेशन पर 10 और लगेंगे
नई दिल्ली के बाद राजधानी के सबसे अधिक भीड़भाड़ वाले पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर सबसे अधिक 10 एस्कलेटर लगाए जाएंगे। यहां रोजाना करीब 242 ट्रेनों की आवाजाही होती है और तकरीबन 2.50 लाख यात्री सफर करते हैं। इनके लिए यहां अभी कुल छह एस्केलेटर हैं। 10 और एस्केलेटर लगाए जाने से यात्रियों को सहूलियत होगी।
पांच स्टेशनों पर दो-दो
नई दिल्ली, हजरत निजामुद्दीन, गाजियाबाद, फरीदाबाद, सोनीपत रेलवे स्टेशनों पर दो-दो एस्केलेटर लगाए जाएंगे। नई दिल्ली राजधानी का सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन है। यहां से रोजाना करीब चार लाख यात्री सफर करते हैं। अभी यहां 20 एस्केलेटर लगे हैं। इसी तरह हजरत निजामुद्दीन से करीब दो लाख यात्री प्रतिदिन सफर करते हैं। अभी यहां केवल तीन एस्केलेटर लगे हुए हैं।
इन स्टेशनों पर भी
दिल्ली-एनसीआर के अलावा उत्तर रेलवे के अन्य मंडलों में लखनऊ स्टेशन पर छह, मेरठ सिटी, लुधियाना जंक्शन व श्रीनगर में चार-चार, हरिद्वार, रायबरेली, शाहजहांपुर, बरेली, शिमला, बरेली, देहरादून, अमृतसर और वाराणसी में दो-दो एस्केलेटर लगाए जाएंगे।
Source - Hindustan Times

स्टेशन का कायाकल्प करने रेलवे अधिकारियो ने किया निरिक्षण, दिए निर्देश

स्टेशन का कायाकल्प करने रेलवे अधिकारियो ने किया निरिक्षण, दिए निर्देश

Image may contain: one or more people, people standing and text

Translate in your language

M 1

Followers